BrahMos WORLD INDIA MADHYA PRADESH BHOPAL WTN SPECIAL Astrology GOSSIP CORNER SPORTS BUSINESS FUN FACTS ENTERTAINMENT LIFESTYLE TRAVEL ART & LITERATURE SCIENCE & TECHNOLOGY HEALTH EDUCATION DIASPORA OPINION & INTERVIEW RECIPES DRINKS FUNNY VIDEOS VIRAL ON WEB PICTURE STORIES
WTN HINDI ABOUT US PRIVACY POLICY SITEMAP CONTACT US
logo
Breaking News

नये साल पर मोदी सरकार का ‘तोहफा’, कई वस्तुएं और सेवाएं हुईं सस्ती

Tuesday - January 1, 2019 11:18 am , Category : WTN HINDI
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘चुनावी रणनीति’ से ‘ज़मीन’ पर आई महंगाई
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘चुनावी रणनीति’ से ‘ज़मीन’ पर आई महंगाई

कम हुई महंगाई: घरेलू उपभोग के सामान समेत गैस सिलेंडर हुआ सस्ता, वहीं क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम की अवधि 31 मार्च 2020 तक बढ़ी

JAN 01 (WTN) – तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में हुई हार और इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए केन्द्र की मोदी सरकार ने आम आदमी को नये साल का तोहफा देते हुए कई वस्तुओं और सेवाओं को सस्ता कर दिया है। आज यानि एक जनवरी से सिनेमा टिकट, 32 इंच तक के टेलीविजन और मॉनिटर स्क्रीन समेत 23 वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी दर कम करने की अधिसूचना जारी कर दी गई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जीएसटी काउंसिल ने 22 दिसम्बर को हुई बैठक में 23 वस्तुओं और सेवाओं पर कर की दर कम करने का फैसला किया था।

उपभोक्ताओं को आज से 23 वस्तुओं और सेवाओं के लिये कम दाम देने होंगे क्योंकि आज से इन पर जीएसटी की दर कम हो गई है। जीएसटी काउंसिल ने अपनी पिछली बैठक में इन 23 वस्तुओं एवं सेवाओं पर 28 प्रतिशत की दर को कम कर दिया था। कुछ वस्तुओं और सेवाओं पर इसे घटाकर 18 प्रतिशत किया गया है, जबकि कुछ वस्तुओं और सेवाओं पर दर को कम कर 12 प्रतिशत किया गया है।
 
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जीएसटी की 28 प्रतिशत की सबसे ऊंची दर पर अब कुछ लक्ज़री वस्तुएं, अहितकर सामान, सीमेंट, बड़े टीवी स्क्रिन, एयरकंडीशनर्स और डिशवाशर्स ही हैं। जीएसटी काउंसिल ने दिव्यांग व्यक्तियों के काम आने वाले वाहक साधनों के कलपुर्जो पर जीएसटी दर को 28 से घटाकर पांच प्रतिशत कर दिया है। इतना ही नहीं, माल परिवहन वाहनों के तीसरे पक्ष की बीमा प्रीमियम पर जीएसटी दर को 18 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत कर दिया गया है।

अब संगमरमर के अनगढ़े पत्थर, प्राकृतिक कॉर्क, टहलने वाली छड़ियां, फ्लाई ऐश से बनी ईंटें आदि सामान पर अब पांच प्रतिशत की दर से जीएसटी लगेगा। संगीत की किताबों, बिना पकी या भाप अथवा उबालकर पकायी गयी सब्जियों तथा फ्रोजेन, ब्रांडेड तथा प्रसंस्करण की ऐसी अवस्था वाली सब्जियां जो उस रूप में उपभोग लायक नहीं हों इन सभी पर अब जीएसटी नहीं लगेगा।

जन-धन योजना के तहत खुले आधारभूत बचत खातों के धारकों को भी अब बैंकों की सेवाओं के लिये जीएसटी नहीं देना होगा। वहीं सरकार द्वारा परिचालित गैर-अधिसूचित अथवा चार्टर्ड उड़ानों के जरिये यात्रा करने वाले तीर्थयात्रियों को अब पांच प्रतिशत की ही दर से जीएसटी का भुगतान करना होगा।
 
वहीं अब 100 रुपये तक की सिनेमा टिकटों पर 18 प्रतिशत के जगह 12 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। सौ रुपये से अधिक दर वाली सिनेमा टिकटों पर भी अब 28 प्रतिशत की जगह 18 प्रतिशत जीएसटी लगेगा। 32 इंच तक के मॉनिटरों तथा टेलीविजन स्क्रीनों और पावर बैंकों पर भी अब 28 प्रतिशत की जगह 18 प्रतिशत की दर से जीएसटी लगेगा।
 
इधर नए साल पर मोदी सरकार ने आम जनता को एक और तोहफा दिया है। सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर अब 5.91 रुपये सस्ता हो गया है जबकि बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर के दाम में 120.50 रुपये की कमी की गई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक महीने में दूसरी बार रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में कटौती की गई है।
 
वहीं केन्द्र सरकार ने मध्य आय वर्ग (एमआइजी) को राहत देते हुए क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम की अवधि को 12 महीने बढ़ाकर 31 मार्च 2020 तक कर दिया है। जानकारी के मुताबिक़, 30 दिसम्बर 2018 तक योजना के लाभार्थियों की संख्या 3,39,713 थी और सरकार ने 7,543.64 करोड़ रुपये की सब्सिडी जारी की है।
 
इस योजना के तहत निम्न आय वर्ग (एलआईजी) और एमआईजी के तहत आने वाले होम लोन पर सरकार से ब्याज छूट हासिल कर सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जून 2018 में इस योजना के तहत कारपेट एरिया को बढ़ाकर एमआईजी-1 के लिए 160 वर्ग मीटर तक और एमआइजी-2 के लिए 200 वर्ग मीटर तक कर दिया गया था। हालांकि यह बढ़ोतरी एक जनवरी 2019 से लागू हुई।
 
अब देखना होगा कि चुनावी साल में प्रधानमंत्री मोदी के ये तोहफे उन्हें लोकसभा चुनाव में कितना फायदा दिला सकते हैं। पेट्रोल-डीजल से लेकर गैस सिलेण्डर तक और होम लोन से लेकर घरेलू उपयोग का सामान सभी सस्ता हो गया है। माना जा रहा है कि चुनाव के पहले मोदी सरकार कुछ और वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी की दर में कटौती कर सकती है जिसके बाद शायद जनता के पास महंगाई की शिकायत का मौक़ा ना रहे। अब देखना होगा कि मोदी सरकार का महंगाई कम करन का कदम जनता को कितना लुभा पाता है।